AMU गीतांजलि श्री को अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार मिलने की खुशियाँ मना रहा

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) समुदाय ने प्रसिद्ध हिंदी कथा लेखक गीतांजलि श्री को अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार प्रदान किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। AMU के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने कहा कि गीतांजलि श्री के रचनात्मक कौशल को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा मिली है क्योंकि वह अपने उपन्यास “Tomb of sand ” के लिए अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार जीतने वाली पहली भारतीय हैं।

प्रो मंसूर ने उन्हें बधाई देते हुए कहा के एक गैर-यूरोपीय भाषा के उपन्यास के लिए यह सम्मान और भारतीय मस्तिष्क और रचनात्मकता की अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त करना उनके लिए बड़ी उबलब्धि है, फैकल्टी ऑफ़ आर्ट्स के डीन प्रो. इम्तियाज हसनैन कहते हैं कि AMU के छात्र और संकाय इस बात से खुश हैं कि विभाजन की इस आकर्षक कहानी और मनुष्यों पर इसके अमिट प्रभाव को यह पुरस्कार मिला है। साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता प्रोफेसर शफी किदवई ने कहा: “इससे पहले, यू आर अनंतमूर्ति और इंतिज़ार हुसैन के उपन्यासों को शॉर्टलिस्ट किया गया था, लेकिन गीतांजलि श्री ने यह बाज़ी मर ली, हिंदी विभाग के प्रो आशिक़ अली गीतांजलि को दिल की गहराइयों से बधाई देते हुए कहते हैं के पश्चिम ने भारत को न केवल अंग्रेजी में लिखने वाले भारतीय लेखकों की नजर से बल्कि हिंदी की समृद्ध साहित्यिक परंपरा के माध्यम से भी देखना शुरू कर दिया है।

अंग्रेजी विभाग के प्रो असीम सिद्दीकी उन्हें बधाई देते हुए कहते हैं की उनका लेखन 80 वर्षीय महिला की कहानी के माध्यम से जीवन के सभी पहलुओं को दर्शाता है। “यह अविश्वसनीय है कि उनके उपन्यास को 2018 नोबेल पुरस्कार विजेता पोलिश लेखक ओल्गा टोकर्कोव्स्की के काम पर प्राथमिकता दी गई थी।

एडवांस्ड सेंटर फॉर वूमेन स्टडीज की प्रोफेसर अजरा मौसवी ने भी गीतांजलि को बधाई देते हुए कहा कि हिंदी में महिलाओं के लेखन की परंपरा बहुत पुरानी है और गीतांजलि श्री ने विभाजन की त्रासदी को चित्रित करके अतीत को पुनर्जीवित करने का सफल प्रयास किया है। हिंदी विभाग के अजय बसरिया भी उन्हें बधाई दी और कहा के गीतांजलि श्री एक प्रसिद्ध लेखक हैं, जिन्होंने चार उपन्यास और लघु कथाएँ प्रकाशित की हैं। उनका पुरस्कार विजेता उपन्यास एक विषय के जटिल पहलुओं को शामिल करता है जिस पर पहले ही बहुत कुछ लिखा जा चुका है। यह एक बंटे हुए परिवार की कहानी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here