… तो इस तरह खेला गया मुस्लिम औरतों से कांवड़ यात्रा निकलवाने का खेल

Kohram News Network & Times Headline – 26 August 

इंदौर – 24 अगस्त को जिस तरह लोन देने के बहाने मुस्लिम महिलाओं को बुलाकर कांवड़ उठवाए गये तथा जलाभिषेक करवाया गया, इस साजिश में स्थानीय नेताओं का नाम आने से मामला और अधिक पेचीदा बन गया है. गौरतलब है की कोहराम न्यूज़ नेटवर्क ने सबसे पहले इस मामले से पर्दा उठाया है.

मामले में साजिश की बू आते देख कोहराम के संवादाता ने स्थानीय इलाके में जाकर लोगो से जब बात की तो काफी कुछ चौकाने वाले नतीजे सामने आये. जो दो नाम इस मामले में सबसे अधिक आ रहे है वो एक है फ़िरदौस पटेल जो की कांग्रेसी नेता है तथा दूसरा नाम हस्सू खां पठान है जो की भाजपा के स्थानीय नेता है.

जब संवाददाता ने भाजपा के स्थानीय नेताओ से बात करनी चाही तो पहले तो उन्होंने इस मामले पर बोलने से साफ़ मना कर दिया, कुछ ने तो यहाँ तक कहा की वो उस दिन इंदौर में थे ही नही, जब ये कहा गया की विडियो में आप दिखाई दे रहे है तो फोन काट दिया गया.

सबसे पहले कोहराम संवाददाता ने अब्दुल रहीम सरवर से बात की जिन्होंने खजराना क्रमांक 39 से भाजपा से पार्षद का चुनाव लड़ा था लेकिन हार गये थे. उनका कहना है की जो भी हुआ है काफी गलत हुआ है और उन्हें इस मामले में A..B..C..D… भी नही मालूम.

इसके बाद संवाददाता ने फ़िरदौस पटेल से बात की, जिनका नाम से मामले को लेकर काफी उछाला जा रहा है.जब उनसे मामले के बारे में पूछा गया तो उनका कहना था की, “ये साझा संस्कृति का आयोजन था जिसमे सभी धर्मो के लोग शामिल थे इसका भाजपा का से कोई सम्बंध नही था, हमे भी यही बोलकर इन्वाईट किया गया.” जब ये पूछा गया की की क्या आप ये पहले से पता था की इसमें कांवड़ यात्रा निकाली जाएगी तो फ़िरदौस पटेल का कहना था की ” जी कांवड़ यात्रा के लिए ही बुलाया गया था”

अब ध्यान देने वाली बात ये है कांवड़ उठाने वाली मुस्लिम महिलाओं ने साफ़ तौर पर मना किया है उन्हें ये पहले से पता नही था की कांवड़ यात्रा के लिए बुलाया जा रहा है जबकि उन्हें बुलाने वाली फ़िरदौस पटेल को ये बात पहले से पता था की कांवड़ यात्रा निकाली जाएगी उसके बाद भी उन्होंने मुस्लिम महिलाओं को एक लाख के लोन और राशन कार्ड बनवाने का का लालच दिया.( सुने ऑडियो )

इसके बाद हम पहुंचे महिला मोर्चे के अध्यक्ष भाजपा नेत्री फ़रीदा खां के पास जिनका कहना था की आयोजन से एक दिन पहले भाजपा के कुछ कार्यकर्ता उनके पास आये थे जिसमे हस्सू खां पठान शामिल थे उन्होंने अगले दिन महिलाओं को लेकर कांवड़ यात्रा में चलने के लिए कहा, जिसे फ़रीदा खां ने मना कर दिया फ़रीदा खां बार बार एक बात को दोहरा रही है की उन्हें झूठे काम करने का शौक नही है तथा जनता को धोखाधड़ी के साथ कोई काम नही करती. यहाँ भी वही बात गौर करने योग्य है की फ़रीदा खां को भी पहले से मालूम था की मुस्लिम महिलाओं को धोखा देकर आयोजन में शामिल किया जायेगा ( देखे विडियो )

इसके बाद बात की गयी कांवड़ यात्रा में शामिल हुई मुस्लिम महिलाओं से, जिन्होंने अपना नाम प्रकाशित ना करने की शर्त पर हमसे बात की. महिलाओं का कहना था की हस्सू खां पठान उनसे ये कहकर आयोजन में ले गये थे की स्वागत करना है तथा मंच पर चढ़कर फूल फेकने है लेकिन वहां जाकर हमारे मुस्लिम महिलाओं को कांवड़ यात्रा में छोड़कर खुद गायब हो गये.वही दूसरी महिला का कहना था की ना हमसे किसी ने पानी को पूछा ना किसी ने अच्छे से बात की और खजराना से जो महिलाए लायी गयी थी उन्हें 2 लाख रुपए के लोन का लालच दिया गया था वो बेचारी भी धुप में खड़ी रही.(सुने ऑडियो )

इस पुरे प्रक्रम से साफ़ साबित होता है की मुस्लिम महिलाओं को पहले से पता नही था की उन्हें कहाँ और किसलिए ले जाया जा रहा है , कुछ महिलाओं को लोन का, कुछ को राशन कार्ड बनवाने का लालच दिया गया था तथा ये कहा गया था की आयोजन में सीएम साहब आएंगे तो वही बात की जाएगी इसीलिए मुस्लिम महिलाए आयोजन में चली गयी, तथा दूसरी बात जो साबित होती है वो ये की स्थानीय नेताओं को इस पूरी साजिश की मालूमात पहले से थी जिन्होंने जानबूझकर मुस्लिम महिलाओं को धोखे से आयोजन में भेजकर खुद वहां से रफूचक्कर हो गये.

( जल्द ही कुछ और ख़ुलासो के साथ ये पोस्ट अपडेट की जाएगी )

तब तक शेयर करें

2 COMMENTS

  1. आप मुस्लिम महिलाओं को लालची और बेवक़ूफ़ कर कर अपमान कर रहे हैं ! क्यों न आप पर मानहानि का मुक़द्दमा दायर किया जाये ?

  2. आप मुस्लिम महिलाओं को लालची और बेवकूफ कह कर अपमान कर रहे हैं ! क्यों न आप पर मानहानि का मुक़द्दमा चलाया जाये ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here