कैंसर का पता लगाने वाली चिप का आविष्कार करने पर सऊदी महिला इंजीनियर ने जीता अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार

सऊदी इंजीनियर ने एक चिप विकसित करने के लिए “इनोवेटर्स अंडर 35” पुरस्कार जीता है जो मानव शरीर में विभिन्न प्रकार के कैंसर का पता लगा सकता है।

दाना अल-सुलेमान किंग अब्दुल्ला यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (केएयूएसटी) में विज्ञान और बायोइंजीनियरिंग के सहायक प्रोफेसर के रूप में काम करती हैं। अरेबिया वेबसाइट के अनुसार, उन्हें उनके काम के लिए सम्मानित किया गया, जिसे “एक कार्यात्मक हाइड्रोजेल-” के रूप में वर्णित किया गया है। जो त्वचा के बीचवाला द्रव से कैंसर-विशिष्ट बायोमार्कर का तेजी से और गैर-आक्रामक नमूनाकरण और पता लगाने में सक्षम बनाता है।”

28 वर्षीय ने अलेखबरिया चैनल को बताया, “यह सूक्ष्म सुइयों से बनी एक छोटी चिप होती है, जिसे किसी पदार्थ से ढका जाता है, जिसे त्वचा पर लगाया जाता है।” उन्होने बताया, “यह तरल को अवशोषित करने में सक्षम है, और एक आसान और गैर-आक्रामक तरीके से कैंसर बायोमार्कर का पता लगाने में सक्षम है।”

उन्होंने कहा, “जिस कारण से मुझे स्लाइड बनाने के लिए प्रेरित किया, वह पारंपरिक तरीके की दर्दनाक और थकाऊ प्रक्रिया है, जहां रोगी से नमूना लिया जाता है।” अल-सुलेमान ने यह भी खुलासा किया कि आविष्कार को अमेरिकी पेटेंट दिया गया और यह कि वर्तमान में प्रौद्योगिकी को किंग अब्दुल्ला विश्वविद्यालय द्वारा टिकाऊ सामग्रियों से विकसित और निर्मित किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here